Skip to content

क्या उत्तर कोरिया कोरोना मामलों के बारे में झूठ बोलता है? WHO के सामने उन्होंने ये बयान दिया (North korea covid cases)

Posted in Worldwide

क्या उत्तर कोरिया कोरोना मामलों के बारे में झूठ बोलता है? WHO के सामने उन्होंने ये बयान दिया (North korea covid cases)

चीन के पड़ोसी उत्तर कोरिया ने कोरोना मामले को लेकर अजीबोगरीब दावे किए हैं. उत्तर कोरिया ने डब्ल्यूएचओ को बताया है कि देश में कोरोना का एक भी मामला नहीं है।

उत्तर कोरिया (North korea covid cases) में एक भी कोविड-19 मामले का न होना इस बात का संकेत है कि देश ने कोई कोविड-19 मामला दर्ज नहीं किया है।

उत्तर कोरिया ने कहा कि 10 जून तक, 30,000 से अधिक लोगों के कोरोनावायरस के लिए परीक्षण किया गया था, लेकिन अभी तक देश में संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है।

दुनियाभर  में लाखो लोगों की जान चली गई और अभी भी कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं और साथ ही उत्तर कोरिया ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को इसकी सूचना दी है.

WHO की रिपोर्ट ने बताया

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने मंगलवार को एक निगरानी रिपोर्ट में खुलासा किया कि, उत्तर कोरिया की जांच से संबंधित आंकड़ों के अनुसार, 4 से 10 जून तक, 733 लोगों की जांच की गई, जिनमें से 149 लोगो में फ्लू जैसे लक्षण थे। इन्फ्लुएंजा बीमारी या गंभीर श्वसन संक्रमण से पीड़ित थे।

इस बयान पर यकीन करना मुश्किल है

हालांकि जानकारों का मानना ​​है कि उत्तर कोरिया का यह बयान चौंकाने वाला है क्योंकि वहां कोरोना का कोई मामला नहीं है. यह अविश्वसनीय है। जानकारों का कहना है कि उत्तर कोरिया का स्वास्थ्य ढांचा खराब है। वहीं, देश चीन की सीमा में है, जो उसका सबसे बड़ा सहयोगी है और उत्तर कोरिया की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता है। कोरोनावायरस चीन में ही शुरू हुआ था, इसलिए आप उत्तर कोरिया पर भरोसा नहीं कर सकते।

Also Read : Best Emergency Contraception अनचाहे गर्भ से बचने का सबसे अच्छा तरीका असुरक्षित यौन संबंध के 120 घंटे बाद काम करना है।

यातायात और व्यापार पर पूर्ण प्रतिबंध

उत्तर कोरिया पर्यटकों पर प्रतिबंध लगाता है और राजनयिकों को यह दावा करते हुए भेजता है कि यह एक राष्ट्रीय समस्या है। साथ ही, सीमा पार से यातायात और व्यापार पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है।

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने पिछले सप्ताह एक राजनीतिक बैठक में अधिकारियों से लंबे समय तक कोविड-19 प्रतिबंध बनाए रखने का आह्वान किया था। जाहिर है, देश फिलहाल अपनी सीमाएं खोलने की योजना नहीं बना रहा है।

अर्थव्यवस्था संकट में

यहां आपको बता दें कि उत्तर कोरिया की लॉकडाउन ने देश की अर्थव्यवस्था पर अधिक दबाव डाला है। दशकों के कुप्रबंधन और देश के परमाणु हथियार कार्यक्रम के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण उत्तर कोरिया की अर्थव्यवस्था संकट में आ गई है।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

https://www.highperformancecpmnetwork.com/fn8k2wgy?key=55c1b26e4cb5b8cf83d0f8a29284f066
https://www.videosprofitnetwork.com/watch.xml?key=3cf418e088349bbe6b0c2eb26f78affd
Translate »